Delhi Me Ghumne Ki Jagah Jaaniye


Delhi Me Ghumne Ki Jagah

आज हम आपको कराने वाले हैं दिल्ली की सैर| आज हम आपको बताएंगे की अगर आप दिल्ली घूमने का प्लान बना रहे हैं तो आपको कौन कौन सी जगह घूमने जाना चाहिए| चलिए आपको full detail में Delhi Me Ghumne Ki Jagah की जानकारी दे देते हैं| लेकिन उसके लिए आपको वादा करना होगा की आप हमारी post को जरूर share करेंगे| चलिए शुरू करते हैं अपनी यात्रा|

दोस्तों, दिल्ली को दिलवालों का शहर भी कहा जाता है| क्यूंकि इस शहर ने हर प्रकार की कला एवं संस्कृति को अपने में बड़ी ही कुशलता से समेट लिया है| यहाँ जो भी घूमने आया, वो यहां की खूबसूरती का कायल हो गया| ऐसा माना जाता है कि दिल्ली का जिक्र महाभारत में भी मिलता है|

लेकिन इतिहासकारों की मानें तो इसकी बुनियाद तोमर खानदान के राजा अर्जुन अनंगपाल तोमर-1 ने रखी थी| आज हम इसी Delhi की कुछ बेहतरीन जगहों के बारे में बताएंगे|

Delhi Me Ghumne Ki Jagah

Nizamuddin Dargah

Nizamuddin Dargah

आइए सबसे पहले आपको लेकर चलते हैं निजामुद्दीन दरगाह की सैर पर| इसे सूफी काल की पवित्र दरगाहों में से एक माना जाता है| हर वर्ष लाखों की संख्या में लोग यहां अपनी मनोकामनाएं लेकर आते हैं| 

आपको बता दें, हजरत निजामुद्दीन चिश्ती घराने के चौथे सूफी संत का नाम था| इतिहासकार मानते हैं की एक बार 1303 में हजरत निजामुद्दीन के कहने पर ही मुग़ल सेना ने युद्ध न करने का फैसला कर लिया था| यही कारण रहा की ये हर तरह के धर्म को मानने वाले लोगों में बहुत ही लोकप्रिय बन गए थे| 

कहते हैं 92 वर्ष की आयु में उन्होंने अपने प्राण त्याग दिए थे| इसके बाद से ही उनकी दरगाह बननी शुरू कर दी गई थी| हालांकि इस मकबरे का नवीनीकरण 1562 तक भी जारी रहा था| जब आप यहां घूमने आएंगे तो यहाँ की खूबसूरत नक्काशी को देखकर दांतों तले उंगली दबाने को मजबूर हो जाएंगे| 

यहाँ आपको एक छोटा कक्ष दिखाई देगा जो पूरी तरह से संगमरमर से बना हुआ है| इस दरगाह में इस्लामिक वास्तुकला का अनूठा संगम देखने को मिलेगा| एक ख़ास बात, जिस समय आप दरगाह में प्रवेश कर रहे हों आपका सिर और कंधे ढंके होने चाहिए| इस दरगाह में महिलाओं के जाने पर सख्त पाबंदी है| हालांकि इसे हटाने के लिए supreme court में मुकदमा चल रहा है|

Bangla Sahib Gurudwara

Bangla Sahib Gurudwara

निजामुद्दीन की दरगाह से अब हमारे कदम बढ़ चले हैं दिल्ली के मशहूर और पवित्र स्थान बंगला साहिब की तरफ| यहां पर हर दिन हजारों की संख्या में लोग अपनी मनोकामनाएं लेकर आते हैं| आस्था के प्रतीक इस गुरुद्वारे में आपको weakend में कुछ quality time अपनों के साथ बिताने के लिए भी लोग आते नजर आएंगे| 

चलिए पहले इसके इतिहास पर रौशनी डालते हैं| दोस्तों ये गुरुद्वारा नई दिल्ली के Connaught place में स्थित है| कहा जाता है कि सिखों के आठवें गुरु हरकिशन साहिब का संबंध बंगला साहिब गुरुद्वारा और इसके अंदर बने सरोवर से जाना जाता है| 

मुग़ल सम्राट शाह आलम द्वितीय के शासन काल के दौरान 1783 में सिक्ख जर्नल भगेल सिंह द्वारा एक छोटे से शाइन का निर्माण किया गया था| उसी वर्ष उन्होंने दिल्ली में 9 सिख धार्मिक स्थलों के निर्माण को अपनी देख-रेख में ही बनवाया था| 

गुरु हरकिशन साहिब की स्मृति में प्रकाश पर्व भी मनाया जाता है| गुरु हरकिशन सबसे कम उम्र के गुरुओं में से एक थे जिन्होंने महज़ आठ साल की उम्र में राज गद्दी संभाली थी| इतनी कम उम्र में गद्दी प्राप्त होने से औरंगजेब नाराज था| 

उसने गुरु हरकिशन को दिल्ली बुलाया| उसने जानना चाहा की उनमें ऐसा क्या ख़ास है जो उन्हें इतनी कम उम्र में ये गद्दी प्राप्त हुई? जब 1664 में गुरु हरकिशन साहिब दिल्ली पहुंचे तो वहां पर हैजे की बीमारी फैली हुई थी| उन्होंने यहां के पानी से लोगों की पीड़ा को दूर किया था| इसी को आज सरोवर का रूप दे दिया गया है| 

जानकार बताते हैं की गुरु हरकिशन साहिब जी ने अपने चरणों को सरोवर के उस जल में रखकर अरदास की थी| फिर उस जल से मरीजों को सहायता भी प्राप्त हुई थी| इस कुएं के पानी को स्वास्थ्य वर्धक और रोग नाशक मानकर लोग अपने घर ले जाते हैं| 

कहते हैं, बाद में राजा जयसिंह ने इस कुएं पर tank बनवा दिया था| ये भी कहा जाता है की सिक्खों के लिए गुरुद्वारा बंगला साहिब और यहाँ मौजूद कुएं के प्रति अपार श्रद्धा है| इस गुरुद्वारे में एक museum, लाइब्रेरी तथा hospital भी मौजूद है| यहाँ hall में ही एक विश्राम गृह भी बनवाया गया है जिसमें बाहर से आने वाले लोग आराम कर सकते हैं| यहां पूरे दिन लंगर चलता रहता है|

Kuchesar (Mud Fort)

Kuchesar (Mud Fort)

साथियों, चलिए अब आपको ले चलते हैं कुचेसर जो की Mudfort के लिए भी जाना जाता है| ये स्थान Delhi में नहीं बल्कि यहां से लगभग 80 किलोमीटर दूर है| इस किले को राव राज विलास के नाम से भी जाना जाता है| ऐसा माना जाता है की यह Mudfort अजीत सिंह के परिवार की पैतृक संपत्ति है| 

आज ये सबसे मशहूर tourist place बन गया है| जो लोग Delhi आते हैं उन्हें एक बार तो यहाँ जरूर visit करना चाहिए| ये किला बहुत ही भव्य है| इसके चारों ओर आम के बाग़ हैं जो इसकी खूबसूरती में चार चाँद लगाते हैं| इस किले को 1734 में बनवाया गया था| ऐसा कहा जाता है की ये किला 18वीं शताब्दी से बना हुआ है| नीमराना hotel की देखरेख में 1998 में इसकी एक बार फिर से मरम्मत की गई थी|

Rajghat

Rajghat

दोस्तों, शायद ही कोई ऐसा होगा जिसने दिल्ली की इस famous location का नाम नहीं सुना होगा| ये स्थान समर्पित है देश की आजादी में अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले और अंग्रेजों की नाक में दम करने वाले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को| दरअसल, ये उनका समाधि स्थल है| 

इस समाधि स्थल को महात्मा गांधी की हत्या के तुरंत बाद यानि 21 जनवरी 1948 को बनवाया गया था| जैसे ही आप यहाँ पर enter करेंगे, आपको पानी का एक खूबसूरत सा दिखने वाला fountain नजर आएगा| इसके चारों तरफ ढेर सारे पार्क हैं| कुछ ही दूरी पर राजघाट का main entry गेट है| राजघाट यमुना नदी के किनारे महात्मा गांधी मार्ग पर स्थित है| यहाँ हर दिन हजारों पर्यटक आते हैं और महात्मा गांधी को उनके संघर्ष के लिए श्रद्धापूर्वक नमन करते हैं|

Pragati Maidan

Pragati Maidan

दोस्तों, आइए अब अंत में हम चलते हैं दिल्ली के सबसे famous पर्यटन स्थल प्रगति मैदान के बारे में| ये स्थान दक्षिण Asia के लिए, आधुनिक मेला संस्कृति के लिए उद्गम स्थल माना जाता है| यहाँ लगने वाले मेलों और प्रदर्शनियों का दुनिया भर में आपसी भाईचारा बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान रहा है| यहाँ हर साल November में एक मेले का आयोजन किया जाता है| इस मेले में व्यापारी तो भाग लेने आते ही हैं, पर यहाँ होने वाले cultural program को देखने, यहाँ के खाने का स्वाद चखने दूर दूर से लोग खींचे चले आते हैं| यहाँ पर हर साल लाखों की संख्या में लोगों का आना लगा रहता है| प्रगति मैदान में एक book fair भी हर वर्ष फरवरी माह में आयोजित किया जाता है जो लोगों के आकर्षण का केंद्र बनता है|

निष्कर्ष (Conclusion)

दोस्तों, आज आपको हमने Delhi Me Ghumne Ki Jagah से वाकिफ करवाया| अपने आज हमारे इस article में ये जाना की दिल्ली में आप कहाँ कहाँ घूमने आ सकते हैं| आपको हमने निजामुद्दीन की दरगाह की सैर भी करवाई| 

Delhi Me Ghumne Ki Jagah की इस कड़ी में हमने आपको इस बात की भी जानकारी दे दी है की Rajghat का निर्माण कब करवाया गया था| साथ ही यहाँ के मशहूर पर्यटन स्थल प्रगति मैदान की भी हमने आपको सैर करवाई है| आपसे फिर मिलेंगे दिल्ली के कुछ अन्य पर्यटन स्थलों की जानकारी के साथ| यदि आप सिक्किम घूमकर आने की सोच रहे हो तो आप ये आर्टिकल जरूर पढ़े – 7 Best Sikkim Tourist Places to Visit in All Seasons.

Previous गोल्डफिश से जुड़ी हर प्रकार की जानकारी प्राप्त करें
Next जानिये हाथ-पैरों में कमजोरी झुनझुनी का एहसास होना है किस बीमारी के लक्षण