विश्व की सबसे ऊंची इमारत: बुर्ज खलीफा


आज हम बात करेंगे बुर्ज खलीफा की| बुर्ज खलीफा दुनिया की सबसे ऊंची इमारतों में से एक है| इसे देखने के लिए पूरी दुनिया से हर साल लाखों लोग आते हैं| चलिए सबसे पहले आपको बताते हैं| बस आप हमारे साथ अंत तक जुड़े रहिए|

Table of Contents

बुर्ज खलीफा का मतलब ?

बुर्ज का मतलब होता है सबसे ऊंची मीनार या बिल्डिंग और खलीफा का मतलब है अधिकारी| दुनिया के सबसे अमीर शहरों में से एक दुबई, जिसके पास दुनिया का सबसे बड़ा खिताब है, दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा का| दुबई में 829.8 मीटर की ऊंचाई पर बुर्ज खलीफा दुनिया की सबसे ऊंची गगनचुंबी इमारत है।

इसके साथ ही बुर्ज खलीफा के पास सबसे ऊंची फ्रीस्टैंडिंग बिल्डिंग, सबसे तेज और सबसे ऊंची लिफ्ट, सबसे ऊंची मस्जिद, सबसे ऊंचा स्विमिंग पूल, दूसरा सबसे ऊंचा ऑब्जर्वेशन डेक और सबसे ऊंचे रेस्टोरेंट का खिताब भी है। 163 मंजिल वाली यह इमारत भी दुनिया की सबसे ऊंची इमारत है। बुर्ज खलीफा के निर्माण में छह साल लगे और आठ अरब डॉलर की राशि खर्च की गई।

इसका निर्माण 21 सितंबर 2004 को शुरू हुआ और इसका आधिकारिक उद्घाटन हुआ 4 जनवरी 2010 को हुआ था। भवन के निर्माण में 1,10,000 टन से अधिक कंक्रीट, 55,000 टन से अधिक स्टील रिबर का उपयोग किया गया है। बुर्ज खलीफा को देखने पर ऐसा लगता है कि यह इमारत कांच और स्टील से बनी है। इमारत का बाहरी भाग 26,000 ग्लास पैनल से बना है।

ग्लेज के लिए विशेष रूप से चीन से 300 कोटिंग विशेषज्ञों को बुलाया गया था। भवन के निर्माण में प्रतिदिन लगभग 12,000 मजदूर काम करते थे। ऊंचाई के कारण, भवन के शीर्ष तल पर तापमान भूतल के तापमान से 15 डिग्री सेल्सियस कम रहता है। यह भी दिलचस्प है कि निर्माण के समय इस इमारत का नाम बुर्ज दुबई था, लेकिन संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायद अल नाहयान के सम्मान में उद्घाटन के समय इसका नाम बुर्ज खलीफा रखा गया था, उन्होंने भवन के निर्माण को वित्तपोषित किया था।

इस बिल्डिंग की लिफ्ट 65 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ती है और बिल्डिंग की 124 वीं मंजिल पर स्थित ऑब्जर्वेशन डेक ‘एट द टॉप’ पर महज दो मिनट में पहुंच जाती है। पर्यटक इस ऑब्जर्वेशन डेक पर बने टेलीस्कोप से दुबई का नजारा देख सकते हैं।

इस इमारत में 76वीं मंजिल पर दुनिया का सबसे ऊंचा स्विमिंग पूल, 158वीं मंजिल पर दुनिया की सबसे ऊंची मस्जिद और 144वीं मंजिल पर दुनिया का सबसे ऊंचा नाइट क्लब है। टावर के लिए जलापूर्ति विभाग दिन भर में औसतन 9,46,000 लीटर पानी की आपूर्ति करता है। 

यह इमारत विवादों के बीच भी रही

मानवाधिकार संगठनों ने आरोप लगाया कि इमारत के निर्माण में काम करने वाले ज्यादातर मजदूर दक्षिण एशिया के थे और उन्हें दैनिक वेतन के रूप में केवल पांच डॉलर दिए जाते थे। इसके अलावा एसी में इस्तेमाल होने वाली बिजली को ठंडा रखने पर भी सवाल उठाए गए।

यह प्रोजेक्ट इतना बड़ा था कि इसके लिए कई तरह की मशीनें और क्रेन बनानी पड़ी। तो आइए जानते हैं 830 मीटर ऊंची और 163 मंजिल ऊंची इस इमारत की पूरी कहानी शुरू से ही विस्तार से।

यह कहानी 6 जनवरी 2004 को शुरू होती है जब दुबई के प्रॉपर्टी डेवलपर एमार (बुर्ज खलीफा के मालिक) ने बुर्ज खलीफा के डिजाइन की जिम्मेदारी स्किडमोर ओविंग्स एंड मेरिल ऑफ अमेरिका नाम की कंपनी को दी और उसी कंपनी के आर्किटेक्ट एड्रियन स्मिथ को इसकी जिम्मेदारी दी गई। इन्हें ही इस शानदार बिल्डिंग की डिजाइन बनाने का श्रेय दिया जाता है। जबकि बुर्ज खलीफा के निर्माण का काम दक्षिण कोरिया की एक जानी-मानी कंपनी ‘सैमसंग सी एंड टी कॉर्पोरेशन’ को दिया गया था, जो पहले से ही ताइपे 101 जैसे कई अन्य बड़े प्रोजेक्ट पर काम कर चुकी थी। दोस्तों आपको बता दें कि ताइपे 101 सबसे ऊंची इमारत थी। बुर्ज खलीफा से पहले दुनिया में।

दोस्तों सैमसंग सी एंड टी कॉर्पोरेशन को दिया गया यह काम इतना बड़ा था कि इसे बेल्जियम की बेसिक्स और यूएई की अरबटेक कंपनी के सहयोग से पूरा किया गया। मजेदार बात यह है कि 2004 में जब बुर्ज खलीफा का बेस बन रहा था तो लोगों को पता भी नहीं था कि उसका पूरा डिजाइन कैसा होता। क्योंकि निर्माण कार्य शुरू होने के बाद भी इसके डिजाइन पर काम किया जा रहा था| काम शुरू होने के तीन साल के भीतर ही इसने रिकॉर्ड बनाने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी।

दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा, जो दुबई में स्थित है, इस इमारत की ऊंचाई 828 मीटर (2,716.5 फुट) है, जो एफिल टॉवर से लगभग तीन गुना अधिक है। एक अनुमान के मुताबिक बुर्ज खलीफा को बनाने में करीब 1.5 अरब डॉलर खर्च किए गए हैं। बुर्ज खलीफा में 58 लिफ्ट और 2957 पार्किंग स्पेस, 304 होटल, 37 ऑफिस फ्लोर और 900 अपार्टमेंट के साथ कुल 163 मंजिल हैं। यह बुर्ज खलीफा के मालिक एमआर द्वारा 2003 में प्रस्तावित किया गया था, जिसका काम 2004 में शुरू किया गया था। 2010 में, यह इमारत बनकर तैयार हुई और इसे जनता के लिए खोल दिया गया। बुर्ज खलीफा के निर्माण के समय करीब 12,000 मजदूरों ने दिन-रात काम किया, जो अलग-अलग देशों और अलग-अलग जगहों से आए थे। ये लोग इतनी ऊंची इमारत पर बिना घबराए काम करते थे। इस इमारत को बनाने में एक लाख हाथियों के बराबर कंक्रीट और पांच A380 हवाई जहाजों के बराबर एल्युमीनियम का इस्तेमाल किया गया है। बुर्ज खलीफा में एक बार में लगभग 35,000 लोग बैठ सकते हैं। बुर्ज खलीफा की इमारत इतनी ऊंची है कि आप इसे 95 किलोमीटर दूर से भी देख सकते हैं| यहां तक कि पड़ोसी देश ईरान को भी अपने चरम से देखा जा सकता है। बुर्ज खलीफा में जमीन से करीब 210 मीटर की ऊंचाई पर 25 मीटर चौड़ा एक हेलीपैड भी बनाया गया है जिस पर हेलीकॉप्टर उतारा गया है| 100 किलोमीटर लम्बी पाइप की सहायता से इस विशाल भवन में प्रतिदिन लगभग 946,000 लीटर पानी की आपूर्ति की जाती है। सबसे ऊंचा स्विमिंग पूल बुर्ज खलीफा की 76वीं मंजिल पर है और 122 वीं मंजिल पर एक रेस्टोरेंट भी है। बुर्ज खलीफा की इमारत इतनी ऊंची है कि इसकी 80 मंजिल से ऊपर रहने वाले लोगों को रमजान के दौरान लंबे समय तक भूखा रहना पड़ता है क्योंकि ऊपर सूरज लंबे समय तक दिखाई देता है। क्या आप जानते हैं कि बुर्ज खलीफा में लगे एसी से एक साल में जितना पानी निकलता है उससे पांच ओलंपिक स्विमिंग पूल भरे जा सकते हैं। बुर्ज खलीफा चारों तरफ से कृत्रिम झीलों से घिरा हुआ है, जो इसकी खूबसूरती में चार चांद लगा देता है। दुबई में बहुत तेज हवाएं हैं जो ऊंची इमारतों को नुकसान पहुंचा सकती हैं, इसलिए इस इमारत में सुरक्षा के बहुत अच्छे इंतजाम किए गए हैं, जैसे हवा के दबाव को झेलने के लिए एक प्लांट, हवा का दबाव बढ़ने पर अलार्म सिस्टम आदि लगाया गया है। बुर्ज खलीफा की पहली पहचान इसकी ऊंचाई है। यह दुनिया की सबसे ऊंची मीनार है जिसकी ऊंचाई 2,717 फीट यानी 828 मीटर है।

सूरज लम्बे समय तक दिखाई देता है

इसकी ऊंचाई के कारण, सूर्य लंबे समय तक दिखाई देता है और सूर्यास्त बहुत देर से होता है।

पानी और बिजली की खपत

बुर्ज खलीफा को प्रतिदिन 946,000 लीटर पानी की आवश्यकता होती है और एक दिन में जितनी बिजली का उपयोग किया जाता है वह एक साथ 360,000 100 वाट के बल्ब को जला सकता है।

एक फूल से प्रेरणा मिली

इसकी डिजाइन बनाने के लिए हाइमन कैलिस नाम के फूल से प्रेरणा ली गई है। इसका डिजाइन उसी फूल की तरह बनाया गया है।

सैन्य परिसर

जिस स्थान पर यह इमारत बनी है वह पहले एक सैन्य परिसर हुआ करता था जिसे “सेंट्रल मिलिट्री कंपाउंड” कहा जाता था।

स्विमिंग पूल और रेस्टोरेंट

इस इमारत में एक आलीशान स्विमिंग पूल और रेस्टोरेंट भी बनाया गया है। यह स्विमिंग पूल दुनिया का दूसरा सबसे ऊंचा स्विमिंग पूल है, जो बुर्ज खलीफा की 76वीं मंजिल पर स्थित है।

कितने लोग रह सकते हैं?

बुर्ज खलीफा में एक बार में करीब 35 हजार लोगों के ठहरने की व्यवस्था है।

तापमान

बुर्ज खलीफा की सबसे ऊपरी मंजिल का तापमान जमीनी स्तर से 6 डिग्री नीचे है।

कितने साल में बना बुर्ज खलीफा?

बुर्ज खलीफा को बनाने में पांच साल से ज्यादा का समय लगा था।

किसने तैयार किया इसका डिज़ाइन?

बुर्ज खलीफा को स्किडमोर, ओविंग्स एंड मेरिल, (एसओएम) एक अमेरिकी वास्तुकला और इंजीनियरिंग फर्म द्वारा डिजाइन किया गया था।

निर्माण के दौरान कुल मिलाकर लगभग 22 मिलियन घंटे काम किया गया था। टावर का डिजाइन हाई मेनू कैलिस फ्लावर या स्पाइडर लिली के आकार से प्रेरित था। बुर्ज खलीफा के निर्माण के कुल लागत में से केवल टावर की लागत 1 अरब डॉलर थी। 2009 के बाद से बुर्ज खलीफा दुनिया की सबसे ऊंची संरचना और इमारत है। बुर्ज खलीफा लिफ्ट सबसे लंबी सिंगल रनिंग लिफ्ट है, यह 140 मंजिलों पर चलती है| बुर्ज खलीफा लंबे समय तक दुनिया की सबसे ऊंची इमारत नहीं बनने जा रही है। इसे दुबई में जेद्दा टावर नामक एक अन्य निर्माण परियोजना से कुछ प्रतिस्पर्धा मिलने वाली है। मूल रूप से, जेद्दा टावर को 2020 तक पूरा करने के लिए निर्धारित किया गया था। वर्तमान में, इसके 2023 में पूरा होने की उम्मीद है। दुबई फाउंटेन बुधवार से रविवार तक शाम 6:00 बजे से हर 30 मिनट में बुर्ज खलीफा के सामने चालू किया जाता है जिसका नजारा देखने लायक होता है| यह दुनिया में सबसे बड़ी डांसिंग फाउंटेन  प्रणाली का रिकॉर्ड रखता है। बुर्ज खलीफा दुबई के विशाल फव्वारे से घिरा हुआ है, जो लगभग दो फुटबॉल मैदानों जितना बड़ा है। यहां का लोकप्रिय साउंड एंड लाइट शो उसी कंपनी द्वारा डिजाइन किया गया था जिसने लास वेगास के लेक बेलाजिओ होटल में फव्वारे बनाए थे। दुनिया के कुछ सबसे प्रसिद्ध कलाकारों की 1000 से अधिक कलाकृतियाँ बुर्ज खलीफा के भीतर लटकी हुई हैं। बुर्ज खलीफा में 57 लिफ्ट और 8 एस्केलेटर हैं। बुर्ज खलीफा दुबई का सबसे लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है। 2010 में बुर्ज खलीफा के उद्घाटन का जश्न मनाने के लिए 10,000 से अधिक आतिशबाजी की गई थी। जिस स्थान पर बुर्ज खलीफा टावर बनाया गया है, उसे पहले “सेंट्रल मिलिट्री कमांड” नामक एक सैन्य परिसर के रूप में इस्तेमाल किया जाता था। बुर्ज खलीफा (एसओएम) को डिजाइन करने वाली उसी डिजाइन टीम ने शिकागो में विलिस टावर को भी डिजाइन किया था। बुर्ज खलीफा का मालिकाना हक एमार प्रॉपर्टीज के पास है। दुनिया का सबसे ऊंचा रेस्टोरेंट बुर्ज खलीफा में 122 के स्तर पर स्थित है। बुर्ज खलीफा का उच्चतम बिंदु जमीन से 3 मिनट के बाद सूर्यास्त का अनुभव करता है। आप बुर्ज खलीफा से दो बार सूर्यास्त देख सकते हैं, एक बार निचली मंजिल से और फिर ऑब्जर्वेशन डेक से। ऑब्जर्वेशन डेक हर दिन खुला रहता है। बुर्ज खलीफा अपने डिजाइन में हरित प्रौद्योगिकी का उपयोग करता है। आखिरी फायरवर्क शो 1 जनवरी, 2017 को हुआ था। एलेन रॉबर्ट ने 2011 में बुर्ज खलीफा पर चढ़ाई की थी। बुर्ज खलीफा तैराकी गतिविधियों का भी समर्थन करता है। चांदी की कोटिंग इमारत से अतिरिक्त प्रकाश और गर्मी को दर्शाती है, जिससे यह बहुत गर्म हो जाता है। पर्यटक बुर्ज खलीफा झील पर नौका विहार करने जा सकते हैं। 2014 में, फ्रेड फुगेन और विंस रेफेट ने बुर्ज खलीफा के उच्चतम बिंदु से दुनिया की सबसे ऊंची BASE छलांग लगाई। यदि आप बुर्ज खलीफा में रहना चाहते हैं, तो दो बेडरूम का अपार्टमेंट किराए पर लेने पर प्रति वर्ष औसतन 200,000 दिरहम खर्च होंगे। बुर्ज खलीफा को फिल्म मिशन इम्पॉसिबल – घोस्ट प्रोटोकॉल में दिखाया गया था, जहां टॉम क्रूज को संरचना पर चढ़ना था। बुर्ज खलीफा, दुबई के कई अन्य लोकप्रिय स्थानों के साथ, अमेरिकी पॉप रॉक बैंड इमेजिन ड्रैगन्स द्वारा थंडर के संगीत वीडियो में दिखाया गया था। यह इमारत इस्लामी संस्कृति का बेहतरीन उदाहरण है। इसे बनाने में 3 क्रेन टावरों का इस्तेमाल किया गया था। एक क्रेन 25 टन आराम से उठा सकती थी। इस इमारत में 2000 पार्किंग की जगह है। यहां 304 होटल हैं और 900 कमरे उपलब्ध कराए गए हैं। इस विशाल इमारत में सबसे बड़ा नाइटक्लब भी देखने को मिलता है।

बुर्ज खलीफा का मालिक कौन है?

बुर्ज खलीफा का स्वामित्व मोहम्मद अलब्बार के पास है, जो एम्मार प्रॉपर्टीज के अध्यक्ष हैं। दुबई में बनी बुर्ज खलीफा दुनिया की सबसे ऊंची और सबसे बड़ी इमारत है, जिसमें शॉपिंग से लेकर सिनेमा तक सभी सुविधाएं देखने को मिलती हैं। इस बोली में लगी लिफ्ट दुनिया की सबसे तेज दौड़ने वाली लिफ्ट है।

FAQ

बुर्ज खलीफा किस देश में स्थित है?

यह दुबई देश में बनी दुनिया की सबसे ऊंची और सबसे बड़ी इमारत है।

बुर्ज खलीफा कब बनकर तैयार हुआ था?

बुर्ज खलीफा 1 अक्टूबर 2009 को बनकर तैयार हुआ था।

बुर्ज खलीफा का मालिक कौन है?

बुर्ज खलीफा का मालिकाना हक एमार प्रॉपर्टीज के चेयरमैन मोहम्मद अलब्बार के पास है।

बुर्ज खलीफा की कीमत कितनी थी?

इमारत को बनाने में कुल करीब 1.5 अरब डॉलर की लागत आई थी और अगर इसे भारतीय रुपये में देखा जाए तो यह करीब 11 हजार करोड़ रुपये है।

बुर्ज खलीफा की कुल ऊंचाई कितनी है?

इस इमारत की ऊंचाई 2717 फीट (828 मीटर) है।

बुर्ज खलीफा में कितनी मंजिलें हैं?

बुर्ज खलीफा में कुल 163 मंजिल हैं।

कभी मैकेनिक थे, अब दुबई के बुर्ज खलीफा में 22 फ्लैटों के मालिक हैं

केरल के एक व्यवसायी जॉर्ज मैकेनिक से व्यवसायी बने। वी.नेरीपराम्बिल के पास दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा में 22 अपार्टमेंट हैं। गौरतलब है कि दुबई में स्थित बुर्ज खलीफा में 900 अपार्टमेंट हैं।

बुर्ज खलीफा पर चढ़ गया ये हॉलीवुड एक्टर

दुनिया की सबसे ऊंची इमारतों में से एक बुर्ज खलीफा की चोटी पर चढ़ना हर किसी के बस की बात नहीं होती, लेकिन कुछ लोग ऐसे खतरनाक काम बड़ी आसानी से कर लेते हैं। ऐसा ही कुछ हॉलीवुड एक्टर विल स्मिथ ने भी किया है. जी हाँ, अपने कारनामों की वजह से विल स्मिथ अब सोशल मीडिया पर भी काफी लोकप्रिय हुए| मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक स्मिथ एक यूट्यूब सीरीज के लिए बुर्ज खलीफा के टॉप पर पहुंचे थे|

निष्कर्ष (Conclusion)

दोस्तों आज हमने आपको दुनिया की सबसे ऊंची बिल्डिंग बुर्ज खलीफा के बारे में विस्तार से बताया| हमने इस बात की भी जानकारी अपने इस article में दी है की बुर्ज खलीफा में अगर आपको किराए पर रूम लेना है तो उसके लिए आपको कितने रुपए खर्च करने होंगे| अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो और कुछ नया जानने को मिला हो तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ जरूर शेयर करें| साथ ही इसे social media पर शेयर करना बिलकुल न भूलें|

ये आर्टिकल्स भी जरूर पढ़े -:

दाद खाज खुजली की अंग्रेजी दवा tablet
aaj kaun sa de hai
गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है
पीरियड के कितने दिन बाद संबंध बनाना चाहिए
टीवी के मरीज को कौन सा फल खाना चाहिए

Previous बीकासूल कैप्सूल खाने से क्या फायदे होते हैं?
Next JIO लगा रही है 45000 टॉवर, आपके पास कहीं भी खाली जमीन हो तो घर बैठे कमाएं 40 हजार रुपए महीना : Jio ke tower kaise lagwaye